मंगलवार, जुलाई 16, 2024
होमदेश & राज्यउत्तर प्रदेशHathras Tragedy: क्या UP प्रशासन की गिरफ्त में हैं सत्संग के आयोजक?...

Hathras Tragedy: क्या UP प्रशासन की गिरफ्त में हैं सत्संग के आयोजक? जानें हाथरस हादसे से जुड़े लेटेस्ट अपडेट

Date:

Related stories

लखनऊ में अवैध कब्जे के खिलाफ ‘योगी सरकार’ के अभियान पर पूर्व CM Akhilesh Yadav का निशाना, जानें क्या बोले सपा मुखिया?

Akhilesh Yadav: यूपी की राजधानी लखनऊ इन दिनों खूब चर्चाओं में है और इसका प्रमुख कारण है 'योगी सरकार' द्वारा अवैध कब्जे के खिलाफ चलाया जा रहा अभियान। यूपी सरकार इन दिनों कुकरैल रिवरफ्रंट विकसित करने के लिए लखनऊ के विभिन्न रिहायशी इलाकों का सर्वे करा रही है और अवैध हिस्सों को तोड़ रही है।

Lucknow News: लखनऊ में सुपर स्पेशलिटी हाॅस्पिटल के साथ योग रिट्रीट सेंटर का होगा निर्माण, जानें क्या है LDA की खास योजना?

Lucknow News: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की भव्यता और चका-चौंध आने वाले दिनों में और बढ़ने वाली है। राजधानी में विकास कार्यों का जिम्मा संभाल रही लखनऊ विकास प्राधिकरण (LDA) की ओर से एक खास योजना बनाई जा रही है जिसके तहत विकास से जुड़े कई कार्य कराए जाएंगे।

UP News: महाकुंभ 2025 के लिए ‘योगी सरकार’ ने झोंकी ताकत, प्रयागराज की भव्यता बढ़ाने के लिए अहम निर्देश जारी; जानें डिटेल

UP News: पवित्र नदी गंगा और यमुना के संगम पर स्थित, हिन्दुओं के एक मुख्य तीर्थस्थल के रूप में अपनी छाप छोड़ चुकी प्रयाग नगरी (इलाहाबाद) इन दिनों खूब चर्चाओं में है।

Hathras Tragedy: उत्तर प्रदेश के हाथरस में स्थित फुलरई गांव में संपन्न हुआ सत्संग चर्चाओं में है। 2 जुलाई को संपन्न हुए इस सत्संग में भगदड़ मचने के कारण 121 लोगों के मौत होने की बात सामने आई। ताजा जानकारी के मुताबिक कुछ मृतकों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भी आ गई है जिसमें दम घुटने की वजह से मौत होने की बात कही गई है। वहीं भगदड़ के कारण अधिक दबाव होने की वजह से मृतकों के सीने की पसली भी टूटने की जानकारी है।

हाथरस हादसे (Hathras Tragedy) के बाद प्रशासन ने भी आनन-फानन में सत्संग के प्रमुख आयोजक देव प्रकाश मधुकर व अन्य कई अज्ञात लोगों पर भार्तीय न्याय संहिता की धारा 105, 110, 126 (2), 223 और 238 के तहत मामला दर्ज किया है। जानकारी के मुताबिक प्रशासन ने इस हादसे के लिए जिम्मेदार माने जाने वाले 3-4 आयोजकों को हिरासत में लिया है। हालाकि प्रशासन की ओर से गिरफ्तारी को लेकर अभी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है।

क्या प्रशासन की गिरफ्त में हैं आयोजक?

हाथरस के फुलरई गांव में 2 जुलाई को आयोजित किए गए सत्संग के दौरान भगदड़ मचने से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई। इस मामले में UP प्रशासन की ओर से सत्संग के प्रमुख आयोजनकर्ता देव प्रकाश मधुकर व अन्य कई अज्ञात लोगों पर FIR दर्ज किया गया है। जानकारी के मुताबिक प्रमुख आयोजनकर्ता व ‘भोले बाबा’ अभी भी फरार है और इस मामले में कुछ अन्य संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया है। प्रशासन का दावा है कि आरोपियों की तलाश की जा रही है और जल्द ही सभी को हिरासत में लिया जाएगा।

भोले बाबा का पक्ष

हाथरस के फुलरई गांव में नारायण साकार हरि ‘भोले बाबा’ नाम के कथावाचक के नेतृत्व में सत्संग किया गया था। इस सत्संग को मानव मंगल मिलन सद्भावना समागम समिति ने आयोजित किया जिसके बाद भगदड़ मचने से सैकड़ों लोगों की मौत हुई। प्रशासन ने FIR में नारायण साकार हरि का नाम नहीं डाला है लेकिन फिर भी लोग इन पर कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं। हाथरस हादसे को लेकर ‘नारायण साकार हरि’ ने चर्चित वकील एपी सिंह को अपना पक्ष रखने के लिए नियुक्त किया।

वकील एपी सिंह का कहना है कि इस मामले की पूर्ण तरीके से जांच होनी चाहिए। बता दें कि एपी सिंह इसके पहले सीमा हैदर और निर्भया केस में आरोपियों के वकील भी रहे हैं।

हाथरस में दुर्घटना या साजिश?

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीते दिन प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हाथरस हादसे से जुड़ा एक बड़ा दावा किया। सीएम योगी ने कहा कि यह हादसा दुर्घटना है या साजिश इसको लेकर भी जांच की जाएगी। सीएम योगी ने बताया कि हाथरस कांड की जांच के लिए न्‍यायिक आयोग का गठन किया गया है जो कि 2 महीने के अंदर शासन को जांच रिपोर्ट सौंपेगा।

UP सरकार द्वारा गठित किए गए न्यायिक आयोग की अध्यक्षता, इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्ति) ब्रजेश कुमार श्रीवास्तव करेंगे। इस न्यायिक आयोग में पूर्व आईएएस हेमंत राव और पूर्व आईपीएस भावेश कुमार सिंह भी शामिल हैं। सरकार की ओर से स्पष्ट किया गया है कि न्यायिक आयोग की रिपोर्ट आने के बाद ही बताया जा सकेगा कि हाथरस हादसा कोई दुर्घटना है या साजिश है।

Gaurav Dixit
Gaurav Dixithttp://www.dnpindiahindi.in
गौरव दीक्षित पत्रकारिता जगत के उभरते हुए चेहरा हैं। उन्होनें चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से अपनी पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की है। गौरव राजनीति, ऑटो और टेक संबंघी विषयों पर लिखने में रुची रखते हैं। गौरव पिछले दो वर्षों के दौरान कई प्रतिष्ठीत संस्थानों में कार्य कर चुके हैं और वर्तमान में DNP के साथ कार्यरत हैं।

Latest stories