रविवार, मई 26, 2024
होमबिज़नेसNPA: एनपीए क्या है? भारत में क्यों बढ़ता जा रहा है इसका...

NPA: एनपीए क्या है? भारत में क्यों बढ़ता जा रहा है इसका चलन, जानें पूरी डिटेल

Date:

Related stories

Union-Rewards.apk : यूनियन बैंक का फर्जी ऐप बना सिर दर्द, आपकी एक गलती बना देगी भिखारी

Union-Rewards.apk : इन दिनों साइबर क्राइम लगातार बढ़ता जा रहा...

NPA: भारत में बैंकिंग की दुनिया में, एक शब्द है जिसका बहुत महत्व है। वह है नॉन-परफॉर्मिंग एसेट (एनपीए)। जब कोई उधारकर्ता इस श्रेणी में आता है, तो उसके लिए कठिन चुनौतियों की एक श्रृंखला शुरू हो जाती है। इनमें धन संबंधी समस्याएं, कानूनी जटिलताएं और व्यवसाय को सुचारू रूप से चलाने में बाधाएं शामिल हैं। आइए देखें कि एनपीए का क्या मतलब है और आगे क्या होता है।

NPA क्या है?

NPA
फाइल फोटो प्रतिकात्मक

NPA वह ऋण है जो 90 दिनों से अधिक समय से बकाया है। इसका मतलब यह है कि उधारकर्ता ने उस अवधि के लिए मूलधन या ब्याज सहित कोई भुगतान नहीं किया है। बैंकों को ऐसे ऋणों को उनके जोखिम को प्रतिबिंबित करने के लिए एनपीए के रूप में वर्गीकृत करने की आवश्यकता होती है।

NPA की मुख्य बातें

●NPA उधारकर्ता द्वारा गैर-भुगतान की लंबी अवधि के बाद बैंक के बैलेंस शीट पर रिकॉर्ड किए जाते हैं।

●NPA को बकाया राशि की अवधि और पुनर्भुगतान की संभाव्यता के आधार पर सबस्टैंडर्ड एसेट, डाउटफुल एसेट या लॉस एसेट के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

●NPA लेंडर पर वित्तीय बोझ बढ़ा देते हैं, समय गुजरने के साथ एनपीए की उल्लेखनीय संख्या रेगुलेटरों को संकेत देती है कि बैंक की वित्तीय सेहत अच्छी नहीं है।

इन बातों का रखे ध्यान

ऋण का भुगतान न करने पर वित्तीय और कानूनी दोनों ही दृष्टि से गंभीर परिणाम होते हैं।

●एनपीए प्रक्रिया और संभावित कार्रवाइयों को समझने से आपको इस चुनौतीपूर्ण स्थिति से निपटने में मदद मिलती है।

●अपने बैंक के साथ खुला संचार, पुनर्गठन विकल्प तलाशना और कानूनी मार्गदर्शन प्राप्त करना समाधान खोजने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम हो सकते हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

Latest stories