सोमवार, मई 27, 2024
होमदेश & राज्यउत्तर प्रदेशExclusive: गाजियाबाद का कार मैकेनिक क्यों नहीं बन पाया डॉक्टर? पीएम मोदी...

Exclusive: गाजियाबाद का कार मैकेनिक क्यों नहीं बन पाया डॉक्टर? पीएम मोदी और योगी आदित्यनाथ से अब ये है अपील

Date:

Related stories

Exclusive: गाजियाबाद के खोड़ा कॉलोनी में रहने वाले कार मैकेनिक सोहेल सैफी ने डीएनपी न्यूज नेटवर्क के सुनील पोद्दार से अपने लक्ष्यों, चुनौतियों और जीवन के बारे में खुलकर बात की। संबल जिले के हेमदपुर गांव के रहने वाले सोहेल ने रोजगार के लिए खोरा जाने से पहले ऑटो मरम्मत का कौशल हासिल किया। बता दें कि सोहेल ने आठवीं कक्षा तक ही पढ़ाई की है। कम शिक्षा के बावजूद, उनके पास अपने काम के प्रति उल्लेखनीय प्रतिभा और प्रतिबद्धता है।

सोहेल की मामूली आय और परिवारिक जिम्मेदारियां

सोहेल की आय बहुत कम है वह कहते है पहले उनकी आय 10000 हजार रूपये थी और वर्तमान में 12000 रूपये है। उनके माता-पिता, दो भाई और एक बहन कुल पाँच लोगों का परिवार हैं। जिनका वह भरण-पोषण करते हैं। उनके भाई मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं, जबकि उनके पिता बढ़ई हैं।

जीवन की कठिनाइयों पर विचार करते समय सोहेल अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ बनने के महत्व पर जोर देते हैं। यह विचार अपने हितों को आगे बढ़ाने के लिए अपने करियर का उपयोग करने के उनके समर्पण के अनुरूप है। सोहेल विपरीत परिस्थितियों में भी आशावादी बने रहते हैं और एक ऑटो मैकेनिक के रूप में अपने काम के लिए धन्यवाद व्यक्त करते हैं, जिसे वह अपने जीवन का सबसे बड़ा अनुभव मानते हैं।

सीएम योगी और नरेंद्र मोदी से की खास अपील

सीएम योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसी राजनीतिक हस्तियों से उनकी आशाओं और अपेक्षाओं के बारे में एक सवाल के जवाब में, सोहेल ने कहा कि वह सिर्फ अपने परिवार का भरण-पोषण करने और समाज को वापस लौटाने के लिए एक स्थिर नौकरी चाहते हैं। वह भविष्य में बेहतर संभावनाओं के लिए आशावाद व्यक्त करके अपने चुने हुए क्षेत्र में बहुत प्रयास करने और सफल होने की अपनी इच्छा पर जोर देता है।

सोहेल का सपना डॉक्टर बनने का था। हालांकि घर की परिस्थिति ने सोहेल की जिंदगी को एक अलग ही मोड़ दे दिया। भले ही उन्होंने उच्च शिक्षा हासिल नहीं की हो, लेकिन उनकी दृढ़ता और धैर्य उन लोगों की अटूट भावना के उदाहरण हैं जो जीवन में बाधाओं को दूर करना चाहते हैं और अपने और अपने प्रियजनों के लिए बेहतर भविष्य बनाना चाहते है।

सोहेल की प्रेरणादायक यात्रा

अंत में, सोहेल की कहानी जीवन में कठिनाइयों का सामना करने वाले लोगों द्वारा प्रदर्शित दृढ़ता और धैर्य की याद दिलाती है। सोहेल अपनी अटूट आशावादिता और अपने काम के प्रति समर्पण के कारण दूसरों के लिए प्रेरणा हैं। वह आशा और दृढ़ता की भावना का प्रतीक है जो सभी बाधाओं को पार कर जाती है और लोगों को सभी कठिनाइयों के बावजूद अपनी आकांक्षाओं का पालन करने के लिए प्रेरित करती है।

Latest stories