शनिवार, जून 22, 2024
होमख़ास खबरेंMohan Bhagwat: चुनावी बयानबाजी, विपक्ष समेत कई मुद्दों पर सख्त हुए RSS...

Mohan Bhagwat: चुनावी बयानबाजी, विपक्ष समेत कई मुद्दों पर सख्त हुए RSS चीफ! नई NDA सरकार से कर दी अहम मांग; जानें डिटेल

Date:

Related stories

अटकलों में विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग, जानें बिहार-आंध्र प्रदेश के लिए केन्द्र के समक्ष क्या है विकल्प?

Special Status for States: बिहार और आंध्र प्रदेश वो राज्य हैं जिन्हें विशेष राज्य का दर्जा देने के लिए लंबे अरसो से मांग की जा रही है। वर्ष 2024 में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की सरकार बनने के बाद ये मांग और तेज हो गई है क्यों कि बिहार व आंध्र प्रदेश की प्रमुख सत्तारुढ़ दल जेडीयू व टीडीपी गठबंधन के सहयोगी हैं।

‘विकसित भारत’ विजन को साकार करेंगे Jayant Chaudhary, केन्द्रीय मंत्री बनाए जाने के बाद किया बड़ा ऐलान; जानें डिटेल

Jayant Chaudhary: भारत की राजनीति में उभरते सितारे व पश्चिमी यूपी के कद्दावर नेता जयंत चौधरी को भी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की सरकार में बतौर केन्द्रीय मंत्री शामिल किया गया है। एनडीए सरकार की गठन के बाद राष्ट्रीय लोक दल के चीफ जयंत चौधरी को केन्द्र में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बना कर कौशल निकास व उद्यमशीलता मंत्रालय का महकमा सौंपा गया।

Modi 3.0 सरकार में केन्द्रीय कर्मचारियों को मिल सकती है खुशखबरी! NPS को लेकर सामने आए ये अपडेट; जानें डिटेल

National Pension Scheme: 4 जून को लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजों की घोषणा की गई थी जिसके बाद पीएम मोदी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने केन्द्र में अपनी सरकार बनाई और विजन के अनुसार कार्य प्रणाली को शुरू कर दिया है।

विदेश नीति को लेकर S Jaishankar का बड़ा दावा! क्या भारत को मिलेगी UNSC की सदस्यता? जानें डिटेल

S Jaishankar: लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजों की घोषणा के बाद पीएम मोदी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने सरकार का गठन कर लिया है। इसके तहत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ 71 अन्य कैबिनेट/राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)/राज्य मंत्रियों ने शपथ ले ली है।

शपथग्रहण के बाद NDA सरकार की पहली कैबिनेट मीटिंग, विभागों के बंटवारा व अपकमिंग विजन पर चर्चा संभव; जानें डिटेल

PM Modi Cabinet Meeting: 9 जून का दिन भारतीय सियासत के लिए बेहद ऐतिहासिक रहा क्योंकि इस खास दिन पर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के नेता नरेन्द्र मोदी ने पीएम के पद व गोपनियता की शपथ ली है।

Mohan Bhagwat: भारत के एक सांस्कृतिक संगठन, हिन्दू राष्ट्रवादी, अर्धसैनिक व स्वयंसेवक संगठन को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के नाम से जाना जाता है। इसका मुख्यालय नागपुर में है जहां से देश की तमाम गतिविधियों पर समय-समय पर टिप्पणी आती रहती है। ताजा जानकारी के अनुसार आरएसएस चीफ या सरसंघचालक मोहन भागवत ने भारत के विभिन्न हिस्सों में चुनावी बयानबाजी, विपक्ष की स्थिति व मणिपुर जैसे कई मुद्दों पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

मोहन भागवत ने केन्द्र की नई राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार (NDA Govt) से भी मांग की है कि पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर में शांति लाने की जरूरत पर जोर दिया जाए। इसके अलावा उन्होंने ये भी स्पष्ट किया है कि चुनाव सहमति बनाने की प्रक्रिया है और यहां एक-दूसरे को लताड़ना, तकनीक का दुरुपयोग व असत्य प्रसारित करना ठीक नहीं है। आरएसएस चीफ की मानें तो राजनीति में विरोधी को प्रतिपक्ष कहना उचित होगा।

RSS चीफ का सख्त रुख

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) चीफ मोहन भागवत ने, केन्द्र में नई राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार के गठन के बाद, नागपुर में राष्ट्रीय स्तर के कैडर प्रशिक्षण शिविर में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अपना मत स्पष्ट किया। आरएसएस चीफ ने कहा कि “चुनाव प्रचार में जिस तरह से एक-दूसरे को लताड़ने, तकनीक का दुरुपयोग व असत्य प्रसारित करने की प्रक्रिया है यो कहीं से भी ठीक नहीं है। चुनावी दौर में विरोधी को प्रतिपक्ष की संज्ञा देनी चाहिए।”

मोहन भागवत ने केन्द्र में गठित नई सरकार से ये भी मांग की है कि “चुनाव के आवेश से मुक्त होकर अब देश के सामने उपस्थित समस्याओं पर विचार करना होगा।”

चुनाव को लेकर RSS चीफ का मत

मोहन भागवत ने नागपुर में ही संघ के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि “चुनाव लोकतंत्र में प्रति पांच वर्ष में होने वाली घटना है। इस दौरान हम लोकमत परिष्कार कर अपना कर्तव्य करते रहते हैं।

संघ प्रमुख ने ये भी कहा कि हमने इस बार भी चुनावी प्रक्रिया में लोकमत का परिष्कार किया है।

NDA सरकार से मांग

RSS चीफ मोहन भागवत ने इशारो-इशारो में ही केन्द्र की नई राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार से अहम मांग कर दी है।

RSS प्रमुख ने देश के उत्तर पूर्वी राज्य मणिपुर में उपजी हिंसा को लेकर कहा कि “विगत एक वर्ष से मणिपुर शांति की राह देख रहा है। इससे पहले 10 वर्षों तक यह शांत रहा और यहां पुराना गन कल्चर समाप्त हो गया था। हालाकि अचानक जो कलह वहां पर उपजा या उपजाया गया, उसकी आग में मणिपुर अभी तक जल कर त्राहि-त्राहि कर रहा है। ऐसे में इस पर प्राथमिकता देकर व विचार कर ध्यान देने की जरुरत है।

Gaurav Dixit
Gaurav Dixithttp://www.dnpindiahindi.in
गौरव दीक्षित पत्रकारिता जगत के उभरते हुए चेहरा हैं। उन्होनें चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से अपनी पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की है। गौरव राजनीति, ऑटो और टेक संबंघी विषयों पर लिखने में रुची रखते हैं। गौरव पिछले दो वर्षों के दौरान कई प्रतिष्ठीत संस्थानों में कार्य कर चुके हैं और वर्तमान में DNP के साथ कार्यरत हैं।

Latest stories