- विज्ञापन -
Homeदेश & राज्यइस देश के राष्ट्रपति होंगे गणतंत्र दिवस 2023 समारोह में मुख्य अतिथि,...

इस देश के राष्ट्रपति होंगे गणतंत्र दिवस 2023 समारोह में मुख्य अतिथि, जानिए आमंत्रण के पीछे क्या है मुख्य वजह

- Advertisement -spot_img

Republic Day 2023: देश में 74वें गणतंत्र दिवस 2023 की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं और हर साल 26 जनवरी पर गणतंत्र दिवस के दिन कर्तव्य पथ पूर्व में (राजपथ) पर परेड़ और गणतंत्र समारोह का आयोजन होता है। सन 1950 में 26 जनवरी के दिन भारत में देश का संविधान लागू हुआ था। इस आयोजन में देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के साथ अन्य देशों के राष्ट्राध्यक्ष भी चीफ गेस्ट यानी मुख्य अतिथि के रुप में शामिल होते हैं। इनके साथ ही देश के अलग-अलग स्थानों से लोग भी इस आयोजन को देखने के लिए आते हैं। तो आइए देखते हैं कि इस साल 74वें गणतंत्र दिवस 2023 में किस देश के राष्ट्राध्यक्ष को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया गया है।

ये भी पढ़ें: DELHI MCD MAYOR ELECTION:आज होगा मेयर और डिप्टी मेयर का फैसला, पिछली बैठक चढ़ गई थी हंगामे की भेंट-सीआईएसएफ तैनात

इस देश के राष्ट्रपति होंगे गणतंत्र दिवस 2023 समारोह में मुख्य अतिथि  

इस बार के 74वें गणतंत्र दिवस समारोह में मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह अल सिसी (Abdel Fatttah El-Sisi) चीफ गेस्ट होंगे। आपको बता दें कि पिछले दो साल से कोरोना के कारण कोई भी चीफ गेस्ट देश में 26 जनवरी के समारोह पर में नहीं आये हैं। हालांकि साल 2021 में ब्रिटेन के तत्कालीन प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को भारत में मुख्य अतिथि के रूप आमंत्रित किया गया था, लेकिन कोरोना वायरस के कारण वह गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल नहीं हो पाए थे।

आमंत्रित करने से पहले इन बातों पर किया जाता है विचार विमर्श

किसी देश के राष्ट्राध्यक्ष को आमंत्रित करने से पहले भारत और उस देश का इकोनॉमिकली, पॉलिटिकल और सैन्य संबध पर विचार किया जाता है। इसके साथ ही किसी देश के राष्ट्राध्यक्ष का मुख्त अतिथि होने के कारण किसी अन्य देश के साथ संबंध पर गलत प्रभाव नहीं होगा, इन जैसी बातों पर विचार विमर्श किया जाता है। इसके बाद ही किसी देश के राष्ट्राध्यक्ष को बुलाया जाता है।

क्यों होगा मिस्र के राष्ट्रपति का आना खास

74वें गणतंत्र दिवस समारोह में मिस्र के राष्ट्रपति का शामिल होना इसलिए भी खास बताया जा रहा है कि जब 15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ था, तो भारत के आजाद होने के 3 दिन बाद ही भारत और मिस्र के बीच औपचारिक संबंध स्थापित बन गए थे। इसके अलावा पिछले साल 2022 में दोनों देशों के बीच इन संबंधों को बंधे हुए 75 साल पूरे हो गए। तो इन्हीं कारण मिस्र के राष्ट्रपति को इस बार के गणतंत्र दिवस समारोह में आमंत्रित किया गया है।

ये भी पढ़ें: EARTHQUAKE IN DELHI: दिल्ली-एनसीआर में महसूस हुए भूकंप के झटके, जानें कितनी रही तीव्रता

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Stay Connected

[td_block_social_counter facebook="#" manual_count_facebook="16985" manual_count_twitter="2458" twitter="#" youtube="#" manual_count_youtube="61453" style="style3 td-social-colored" f_counters_font_family="450" f_network_font_family="450" f_network_font_weight="700" f_btn_font_family="450" f_btn_font_weight="700" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9fQ=="]

Must Read

- Advertisement -spot_img

Related News

- Advertisement -spot_img