Diabetes During pregnancy:
Diabetes During pregnancy:

Diabetes During pregnancy: प्रेंगनेंसी किसी भी महिला की जिंदगी के सबसे खूबसूरत और यादगार पल होता है, बतौर पेरेंट्स होने के नाते माता और पिता इस पल को खूब इंजॉय करते हैं. मगर कभी-कभी महिलाओं को कई ऐसी बीमारियां होती हैं जिसमें प्रेगनेंट होना किसी चुनौती से कम नहीं होता, डायबिटीज भी इनमें से एक है जिसे मधुमेय के नाम से भी जाना जाता है. लाइलाज होने के चलते इसे केवल दवाओं और डाईट के जरिए ही कंट्रोल किया जा सकता है, गर्भावस्था में डायबटिक औरतों को अपनी सेहत के साथ दुनिया में आने वाले बच्चे की सेहत का भी ध्यान रखना होता है. ऐसे में खान-पान में कुछ सुधार करके इस इसे कंट्रोल किया जा सकता है ताकि मां और बच्चा दोनों ही सही सलामत रहें. आज और कुछ ऐसी बातों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे प्रेगनेंसी के फेज में शामिल कर सकते हैं.

जूस और शुगर वाली चीजें बंद

rakulpreet 37
Diabetes During pregnancy: प्रेगनेंसी में डायबिटीज से जूझ रही महिलाएं फॉलो करें ये टिप्स, नहीं होगा कोई नुकसान 3

डायबिटीज में प्रेगनेंट महिलाओं को मीठे जूस और ऐसे सारे पेय पदार्थ जिनमें शुगर हो सकता उन्हें पीने से बचना चाहिए. ऐसी चीजें शरीर में जाकर शुगर लेवल को बढ़ा सकती हैं इसलिए जहां तक हो सके इस तरह की ड्रिंक्स में कमी कर सकते हैं.

शुगर फ्री चीजों को डायट में शामिल करें

प्रेगनेंसी में इस तरह की कोई भी बीमारी होने पर सबसे जरूरी है कि चीनी और शहद जैसी चीजों से दूरी बना ली जाए, इसके साथ जितना हो सके शुगर फ्री चीजों को खाने की आदत डालनी चाहिए. शुरूआत में मन करने पर उसे कंट्रोल भी करना चाहिए.

हाइड्रेटिड रहें

कई बार प्रेगनेंसी में महिलाओं को प्यास लगनी कम हो जाती है जिसके चलते वो पानी जरूरत से कम पीती हैं. यहां आपको बता दें कि यह शरीर के ग्लूकोज के संतुलन को बिगाड़ सकता है इसके लिए जरूरी है कि दिन में अच्छी तरह पानी पिया जाएं इसके लिए अपने साथ एक बोतल हमेशा रख सकते हैं.

फाइबर युक्त आनाज

डायबिटीज में प्रेगनेंट औरतों को डाईट में ऐसी चीजों को शामिल करना चाहिए जोकि फाइबर से भरपूर हो. ऐसे कई साबुत और मोटे आनाज हैं जिसे डाईट में शामिल किया जा सकता है साथ ही कार्बोहाइटेड युक्त भोजन को खाने से कंट्रोल करना सेहत के लिए अच्छा विकल्प हो सकता है.

योगा करें

इस पूरे वक्त में खुद को हेल्दी बनाए रखने के लिए जरूरी है कि नियमित रूप से योगा किया जाए. यह मां और होने वाले बच्चे की हेल्थ के लिए काफी अच्छा माना जाता है, साथ ही अगर मधुमेय की समस्या भी है तो इसे कंट्रोल करने के लिए भी योगा की मदद ली जा सकती है. इसके लिए अनुलोम-विलोम और डायबिटीज में किये जाने वाले आसान योगा कर सकते हैं.

डिस्क्लेमर: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों को केवल जानकारी के रूप में लें। DNP News Network/Website/Writer इनकी पुष्टि नहीं करता है। इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

2022 से करियर की शुरुआत कर दीक्षा बतौर कंटेंट राइटर के रूप में अपने सेवाएं दे रही...