सोमवार, मई 27, 2024
होमख़ास खबरेंRahul Gandhi: राहुल गांधी के बयान से गरमाई सियासत, कहा 'हम नफरत...

Rahul Gandhi: राहुल गांधी के बयान से गरमाई सियासत, कहा ‘हम नफरत से भरी ‘असुर-शक्ति’ के खिलाफ’…, जानें पूरी खबर

Date:

Related stories

Rahul Gandhi: चुनावी सभा के दौरान बाल-बाल बचे राहुल गांधी, मंच टूटने से मचा हड़कंप; देखें वीडियो

Rahul Gandhi: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व रायबेरली के साथ वायनाड लोक सभा सीट से प्रत्याशी राहुल गांधी आज चुनावी जनसभा के दौरान बाल-बाल बच गए।

Rahul Gandhi: लोकसभा की तारीखों का ऐलान होते ही सियासी पारा चढ़ गया है। इसी बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गया है। आपको बता दें कि कांग्रेस की तरफ से गुरूवार को फ्रीज हुए पार्टी के खातों पर चिंता व्यक्त करने के लिए कांग्रेस के शीर्ष नेताओं द्वारा आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के समापन के तुरंत बाद Rahul Gandhi ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हम नफरत से भरी ‘असुर शक्ति’ के खिलाफ लड़ रहे है। इसे लेकर अब सियासत भी तेज हो गई है। बीजेपी के तरफ से भी इस बयान के बाद पलटवार किया गया है। बता दें कि प्रेस कॉनफ्रेंस में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकर्जुन खड़गे, सोनिया गांधी, और राहुल गांधी मौजूद थे।

बीजेपी ने कांग्रेस को दिया करारा जवाब

राहुल गांधी की “असुर-शक्ति” टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए, भाजपा नेता नलिन कोहली ने कहा कि, “लोगों द्वारा चुनी गई सरकार को ‘असुर’शक्ति’ कहकर, कांग्रेस पुष्टि कर रही है कि उन्हें भारत के लोगों पर कोई भरोसा नहीं है। भारत के मतदाता, जो भारत का भाग्य निर्धारित करते हैं। क्या वे मानते हैं कि लोग असुरों को वोट देते हैं? सच तो यह है कि कांग्रेस पार्टी के पास लोगों के सामने जाने का कोई विश्वसनीय कारण नहीं है, वह बहाने ढूंढ रही है और दूसरों को अपनी स्वयं की अपर्याप्तताओं के लिए दोष दें।”

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने बीजेपी पर लगाया आरोप

दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे का कहना है, “मैं यह नहीं बताना चाहता कि बीजेपी ने कुछ कंपनियों से पैसे कैसे लिए चूंकि सुप्रीम कोर्ट इस मामले की जांच कर रहा है, मुझे उम्मीद है कि सच्चाई जल्द ही हमारे सामने होगी। मैं संवैधानिक संस्थाओं से अपील करता हूं कि अगर वे स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव चाहते हैं, तो उन्हें हमें अपने बैंक खातों तक स्वतंत्र रूप से पहुंचने की अनुमति देनी चाहिए। कोई भी राजनीतिक दल आयकर के दायरे में नहीं आता है।”

Latest stories