सोमवार, अप्रैल 22, 2024
होमहेल्थWalking vs Running: चलना या दौड़ना, आपके स्वास्थ्य के लिए क्या है...

Walking vs Running: चलना या दौड़ना, आपके स्वास्थ्य के लिए क्या है बेहतर? जानें पूरी डिटेल

Date:

Related stories

Sesame Benefits: सर्दियों में करें इन तिल का सेवन, मिलेंगे गजब के फायदे

Sesame Benefits: आजकल लोगों को सुबह और शाम हल्की-हल्की...

Walking vs Running: शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए व्यायाम के बहुत सारे लाभ हैं। लेकिन जब दौड़ने और चलने की बात आती है, तो इसमें बहुत अधिक अंतर नहीं होता है। गौरतलब है कि व्यायाम करने के अनेकों फायदे हैं। आजकल लोगों का पास समय नहीं है कि वह अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दें सके। जिसके कारण कम उम्र में ही युवाओं को अनेक बीमारियां जकड़ रही है। वहीं कई लोगों के मन में हमेशा से यह सवाल रहता है कि व्यायाम के दौरान चलना ज्यादा फायदेमंद होता है या दौड़ना। चलिए आज इस लेख के माध्यम से आपको बताते है कि कौन है बेहतर।

वजन घटाने के लिए चलना बेहतर या दौड़ना?

यदि आप दौड़ पूरी करना चाहते हैं या अधिकतम संभव कैलोरी बर्न करना चाहते हैं, तो दौड़ना सबसे अच्छा हो सकता है। जबकि पैदल चलना प्रमुख स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है और एक कम प्रभाव वाला व्यायाम है, यह उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है जिन्हें गठिया, घुटने का दर्द या अन्य स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं हैं। हालांकि दोनों के अलग अलग फायदे है। कई एक्सपर्ट का मानना है कि आप चलने से भी अपना वजन कम कर सकते है। अगर आप वजन कम करना चाहते है तो आप प्रतिदिन 30 मिनट से लेकर 45 मिनट तक चल सकते है। इसके अलावा आपको अपने खान-पान पर भी ध्यान रखना होगा तभी आप अपना लक्ष्य प्राप्त कर सकते है।

एक्सपर्ट के मुताबिक अगर एक व्यक्ति 30 मिनट के लिए दौड़ता है तो वह लगभग 453 कैलरी बर्न करेगा। वहीं अगर एक व्यक्ति 30 मिनट तक चलता है तो लगभग वह 261 कैलरी बर्न करेगा।

हृदय स्वास्थ्य पर चलने का प्रभाव

पैदल चलना एक प्रकार का एरोबिक व्यायाम है। यह आपकी शारीरिक गतिविधि को बढ़ाने और आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के सबसे आसान तरीकों में से एक है। शारीरिक गतिविधि आपकी हृदय गति को बढ़ाती है, आपके दिल को मजबूत करती है, और आपके शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ाती है। यह आपके अंगों तक अधिक ऑक्सीजन और पोषक तत्व पहुंचाने में मदद कर सकता है। व्यायाम से आपके फेफड़ों की ऑक्सीजन लेने की क्षमता भी बढ़ती है। यह रक्तचाप को कम करता है और शरीर की चर्बी को कम करने में मदद करता है। शोधकर्ताओं ने हाल ही में पाया कि 70 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए, दैनिक तेज चलने के प्रत्येक अतिरिक्त 500 कदम से हृदय रोग का खतरा 14% कम हो जाता है।

हृदय स्वास्थ्य पर दौड़ने का प्रभाव

दौड़ना, या जॉगिंग करना, सबसे अच्छे कार्डियो व्यायामों में से एक है जो आप कर सकते हैं। दिन में कम से कम 10 मिनट दौड़ने से हृदय रोग का खतरा काफी कम हो सकता है। धावकों में हृदय रोग से मरने की संभावना आधी हो जाती है। यह आपकी आराम करने वाली हृदय गति को भी कम कर देता है, जब आप आराम कर रहे होते हैं तो आपका दिल प्रति मिनट कितनी बार धड़कता है। यह आपके समग्र स्वास्थ्य और फिटनेस का एक महत्वपूर्ण संकेतक है।

घुटनों पर चलने का प्रभाव

चलने से घुटनों के आसपास की मांसपेशियां और जोड़ मजबूत हो सकते हैं और जोड़ों को चिकनाई देने में भी मदद मिलती है। नियमित रूप से चलने से वजन कम करने में भी मदद मिल सकती है जिससे घुटनों पर दबाव कम हो सकता है और दर्द कम हो सकता है। बता दें कि घुटने के दर्द से दुनियाभर में लागों लोग परेशान है। अपनी दिनचर्या में पैदल चलने को शामिल करने से घुटने के दर्द को कम करने में महत्वपूर्ण लाभ मिल सकते हैं। चलना एक कम प्रभाव वाला व्यायाम है जो घुटने के स्वास्थ्य के लिए कई लाभ प्रदान करता है।

घुटनों पर दौड़ने का प्रभाव

यदि आप नियमित धावक हैं, तो निस्संदेह किसी ने कभी न कभी आपसे कहा होगा कि दौड़ना आपके घुटनों के लिए हानिकारक है। अधिक संभावना यह है कि यह एक गैर-धावक था। लेकिन यह कहने के लिए बहुत सारे सबूत हैं कि दौड़ने के फायदे जोखिमों से कहीं अधिक हैं, और इसमें आपके घुटनों पर पड़ने वाला प्रभाव भी शामिल है। हालांकि अगर आपके घुटने में कोई समस्या है तो दौड़ने से पहले आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए

चाहे आप अपना वजन कम करना चाहते हों या अपने संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार करना चाहते हों, चलना और दौड़ना दोनों ही बेहतरीन विकल्प हैं। इस तरह के हृदय व्यायाम आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकते हैं।

Disclaimer: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। इस लेख में उल्लिखित तरीकों और दावों को केवल सुझाव के रूप में लें, डीएनपी इंडिया उनकी पुष्टि या खंडन नहीं करता है। ऐसे किसी भी सुझाव/उपचार/दवा/आहार पर अमल करने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

Latest stories