शुक्रवार, मई 24, 2024
होमदेश & राज्यPM Modi: आप नेता संजय सिंह और कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने...

PM Modi: आप नेता संजय सिंह और कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने इलेक्टोरल बांड को लेकर पीएम मोदी पर बोला हमला; जानें पूरी खबर

Date:

Related stories

Prajwal Revanna Case में बड़ा अपडेट! CM सिद्धारमैया ने PM Modi को पत्र लिख की ये मांग; देखें पूरी रिपोर्ट

Prajwal Revanna Case: कर्नाटक की हसन लोक सभा सीट से जनता दल (सेक्युलर) के सांसद प्रज्वल रेवन्ना (Prajwal Revanna) पर लगे यौन शोषण के आरोप वाले मामले में बड़ा अपडेट सामने आया है।

Sambit Patra के भगवान जगन्नाथ को लेकर दिए बयान से चढ़ा सियासी पारा, जानें पश्चाताप के लिए अब क्या करेंगे BJP प्रवक्ता?

Sambit Patra: लोक सभा चुनाव 2024 को लेकर सियासी घमासान जोरो पर है। इसी बीच ओडिशा की पुरी लोक सभा सीट से भाजपा प्रत्याशी संबित पात्रा भी आज खूब सुर्खियो मे हैं।

PM Modi: पीएम मोदी के इलेक्टोरल बॉन्ड पर अब सियासत तेज हो गई है। एनआई से बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने इलेक्टोरल बॉन्ड पर कहा था कि “यदि चुनावी बांड नहीं होते तो यह पता लगाने की शक्ति किसके पास होती कि पैसा कहां से आया और कहां गया? ये है इलेक्टोरल बॉन्ड की सक्सेस स्टोरी। मेरी चिंता यह है कि मैं कभी नहीं कहता कि निर्णय लेने में कोई कमी नहीं है। निर्णय लेने में, हम सीखते हैं और सुधार करते हैं। इसमें भी सुधार होना बहुत संभव है। पीएम मोदी ने आगे कहा था कि देशभर में कुल 3000 कंपनियों ने चुनावी बांड दान किया। इन 3000 कंपनियों में से 26 कंपनियां ऐसी थीं जिनके खिलाफ कार्रवाई की गई है। इसी को लेकर विपक्ष अब पीएम मोदी और बीजेपी पर हमलावर नजर आ रहा है।

PM Modi सुप्रीम कोर्ट से माफी मांगे

आप नेता और सांसद संजय सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पीएम मोदी पर हमला बोला उन्होंने कहा कि “कल पीएम मोदी ने एक विस्तृत इंटरव्यू दिया। लेकिन इंटरव्यू में सबसे चौंकाने वाली बात ये है कि प्रधानमंत्री आजादी के बाद के सबसे बड़े घोटाले का खुलेआम बचाव कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने चुनावी बॉन्ड को असंवैधानिक और अवैध बताया है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का भी अपमान किया, उन्हें सुप्रीम कोर्ट और देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए”।

मनीष तिवारी ने इलेक्टोरल बांड पर उठाए सवाल

एएनआई के साथ एक इंटरव्यू के दौरान चुनावी बॉन्ड पर पीएम मोदी के बयान पर कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा कि “जब 2017 में इलेक्टोरल बॉन्ड लाए गए थे तो हमने उस वक्त भी इसका कड़ा विरोध किया था क्योंकि इसमें कोई पारदर्शिता नहीं थी और सुप्रीम कोर्ट का फैसला इस बात की पुष्टि करता है कि इलेक्टोरल बॉन्ड एक बहुत ही अपारदर्शी योजना थी। इलेक्टोरल बॉन्ड सबसे संस्थागत भ्रष्टाचार था इसे किसी भी लोकतंत्र में लागू किया जा सकता था और मैं आभारी हूं कि सुप्रीम कोर्ट ने इसे रद्द कर दिया”।

Latest stories