मंगलवार, अप्रैल 23, 2024
होमदेश & राज्यHindu Achar Sanhita: प्रयागराज में होने वाले महाकुंभ में देश के सामने...

Hindu Achar Sanhita: प्रयागराज में होने वाले महाकुंभ में देश के सामने होगी हिंदू आचार संहिता, महिलाओं को मिलेगा विशेष अधिकार

Date:

Related stories

Budhwar Vrat Katha & Aarti Lyrics: बुध देव व गणेश भगवान की पूजा से पूर्ण होते हैं मंगल कार्य, पढ़ें व्रत कथा व आरती

Budhwar Vrat Katha & Aarti Lyrics: हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार बुधवार का दिन गणेश भगवान को समर्पित है। मान्यता है कि बुधवार के दिन गणपति भगवान की पूजा करने से भक्तों के सभी मंगल कार्य पूर्ण हो जाते हैं।

Shani Chalisa Lyrics: शनि देव की अराधना से मिलती है कष्टों से मुक्ति, यहां पढ़ें चालीसा

Shani Chalisa Lyrics: हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार शनिवार के दिन भगवान शनि देव (Shani Dev) की अराधना करने से भक्तों को सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है।

Santoshi Mata Ji Ki Aarti Lyrics: संतोषी माता की पूजा से होता है भक्तों का कल्याण, यहां पढ़ें आरती

Santoshi Mata Ji Ki Aarti Lyrics: हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार मां संतोषी की उपसना के लिए शुक्रवार का दिन सबसे उत्तम माना जाता है। मान्यता है कि इस खास दिन पर संतोषी मां की पूजा करने से भक्तों को धन-धान्य के साथ सुख-संपदा की प्राप्ति होती है।

Brihaspati Dev Ki Katha: बृहस्पति देव के पूजन से पूर्ण होती हैं इच्छाएं, यहां पढ़ें कथा

Brihaspati Dev Ki Katha: बृहस्पति देव की पूजा के लिए गुरुवार का दिन सबसे अच्छा माना जाता है। हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार बृहस्पति का पूजन करने से हर पीड़ा से मुक्ति मिलती है और साथ ही भक्तों की सभी मनोकमानाएं भी पूरी होती है।

Hindu Achar Sanhita: 2025 में प्रयागराज में होने वाल महाकुंभ खास होने वाला है। बता दें कि 351 वर्षों बाद Hindu Achar Sanhita बनी है। Hindu Achar Sanhita के तहत हिंदुओं को मंदिर में बैठने , पूजा – पाठ करने के लिए सामान नियम बताए गए है। वहीं इस आचार संहिता में महिलाओं को भी अनुष्ठान करने को लेकर अधिकार दिए गए है। आपको बताते चले कि अशौचाव्स्था के समय को छोड़कर महिलाएं वेद पढ़ सकेंगी और यज्ञ अनुष्ठान भी कर सकेंगी। इसके अलावा रात की जगह दिन में विवाह करने को बढ़ावा दिया गया है। साथ ही भारतीय परंपरा को अनुसार जन्मदिन मनाने पर जोर दिया गया है।

351 वर्षों बाद बनी हिंदू आचार संहिता

गौरतलब है कि Hindu Achar Sanhita को काशी की विद्वत परिष्द के कई विद्वानों की मदद से तैयार की गई है। आपको बता दें कि प्रयागराज में होने वाले महाकुंभ में शंकराचार्य और महामंडलेश्वर अंतिम मुहर लगाएंगे। उसके बाद धर्माचार्य नए हिंदू आचार संहिता को देश की जनता से स्वीकार करने का आग्रह करेंगे।

इसका मकसद देश को एकसूत्र में में पिरोने और हिंदू धर्म को मजबूत करने के लिए हिंदू आचार संहिता तैयार की गई है। कर्म को कर्तव्य प्रधान Hindu Achar Sanhita के लिए स्मृतियों को आधार बनाया गया है। बता दें कि इसमे श्रीमद्भभगवत गीता, रामायण, महाभारत और पुराणों का अंश शामिल किया गया है।

पहली बार छापी जाएंगी 1 लाख प्रतियां

Hindu Achar Sanhita
फाइल फोटो प्रतिकात्मक

आपको बताते चले कि प्रयागराज में होने वाले महाकुंभ में वितरण के लिए करीब 1 लाख प्रतियां छापी जाएंगी। इसके बाद देश के हर शहर में 11 हजार प्रतियां को बांटा जाएगा। समय को देखते हुए षोडश संस्कारों का भी सरल किया गया है। जैसे मृत्यु के बाद दिए जान वाले भोज के लिए न्यूनतम 16 की संख्या निर्धारित की गई है। श्री काशी विद्वत परिषद के महामंत्री प्रों रामनारायण द्विवेदी ने बताया कि देश के लिए नए हिंदू आचार संहिता का ड्राफ्ट तैयार है।

Latest stories