Health tips:
Health tips:

Health tips: हमारी प्रकृति किसी खजाने से कम नहीं है इसमें पाए जाने वाले ज्यादातर पेड़ पौधे अपनी खासियतों से लोगों को हैरान कर देते हैं. इसमें से तो कई ऐसे भी हैं जिनके बारें में लोगों को ठीक से पता तक नहीं है ऐसा ही एक पेड़ पटवा भी हैं जिससे कई बीमारियों का ईलाज किया जाता है. हिमालय के पहाड़ी क्षेत्रों में पाया जाने वाला यह पेड़ आज विलुप्ति की कगार पर है, इसकी खासियतों को देखते हुए आज इसके प्रयोग और बीमारियों में फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं.

खूबियों का खजाना है पटवा

आपको बता दें कि पटवा नाम (मीजोट्रोपीज पैलेटा) का यह पेड़ आमतौर पर पहड़ी जगहों विशेषकर नेनीताल की ईलाकों में पाया जाता है. इसे IUCN की रेड लिस्ट में भी शामिल किया गया है. इसका नाम वहीं की एक जगह के नाम पर पड़ा है, पेड़ की पत्तियां मोटी और रूएदार होती हैं जोकि कई तरह की बीमारियों के ईलाज करने में प्रयोग में लाई जाती हैं. इसमें एंटी बेक्टीरियल, एंटी फंगल और माइक्रोबियल प्रोपर्टीज पाई जाती है यहीं खासियत इसे सबसे अलग और खास बनाती हैं. इस पेड़ की पत्तियों का प्रयोग खुजली सहित कई परेशानियों को दूर करने में होता है.

करता है कई बीमारियों का ईलाज

पटवा नाम के इस पेड़ की पत्तियां काफी चौड़ी होती हैं इससे पेट की कई तरह की बीमारियां दूर होती हैं. इसमें पेट के कीड़े और रोगाणुओं की ग्रोथ होना शामिल है, वहीं इनका सुनहरी पत्तियों का उपयोग दाद, खाज खुजली को दूर करने के लिए भी होता है. आज इस आयुर्वेदिक पेड़ की संख्या केवल कुछ गिनतियों में ही बची हुई है, इसके फायदों को लेते रहने और बाकी लोगों तक इसे पंहुचाने के लिए तेजी से कम होते इस पौधे को बचाना जरूरी है.

डिस्क्लेमर: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों को केवल जानकारी के रूप में लें। DNP News Network/Website/Writer इनकी पुष्टि नहीं करता है। इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

2022 से करियर की शुरुआत कर दीक्षा बतौर कंटेंट राइटर के रूप में अपने सेवाएं दे रही...